Sunday, October 29, 2017

दायरे

हम सब 

अपने-अपने 

दायरों में क़ैद हैं


कोई उन्हें घर कहता है

तो कोई कटघरा


तो कोई यारी-दोस्ती की बंदिश

तो कोई धर्म को कोसता है


29 अक्टूबर 2017

सिएटल | 425-445-0827

Friday, October 27, 2017

बिछड़ने का दर्द क्या होता है

बिछड़ने का दर्द क्या होता है

यह मैं नहीं जानता

लेकिन

सूरज को ढलते वक़्त 

पत्तों को गिरते वक़्त 

लहूलुहान होते देखा है


चढ़ते सूरज का

खिलते वसंत का

रंग

दूधिया होता है

पीला होता है

दूध में हल्दी जैसा

  • सुना है, दर्द कम होता है


27 अक्टूबर 2017

सिएटल | 425-445-0827

http://mere--words.blogspot.com/


Monday, October 23, 2017

बुझता दीपक बूझा के गया

बुझता दीपक

बूझा के गया

भेद सारे जग के

बता के गया


जला था हवा से

बुझा भी हवा से

प्रेमियों की ज़िद को

जता के गया


बनाता है जो भी

मिटाता है वो ही

जो दिखता नहीं वो

दिखा के गया


राख बची है

परछाई कहीं है

धुएँ में सब कुछ

उड़ा के गया


तेल भी है, बाती भी

साबुत सारी माटी भी

बिन ज्योति सूना-सूना

समझा के गया


23 अक्टूबर 2017

सिएटल | 425-445-0827

http://mere--words.blogspot.com/



Monday, October 9, 2017

उसे भूल जाऊँ ये मुमकिन नहीं है

उसे भूल जाऊँ 

ये मुमकिन नहीं है

उसे याद आऊँ 

ये मुमकिन नहीं है


सफ़र में मिलेंगे

चेहरे हज़ारों 

उसे देख पाऊँ 

ये मुमकिन नहीं है


सुनूँगा तराने

महफ़िलों में लाखों 

उसे सुन पाऊँ 

ये मुमकिन नहीं है


शब हो, सुबह हो

यहाँ हो, वहाँ हो

उसे दूर पाऊँ 

ये मुमकिन नहीं है


जाम है, साक़ी

सुराही कहीं है

होश में मैं आऊँ 

ये मुमकिन नहीं है


9 अक्टूबर 2017

सिएटल | 425-445-0827

http://mere--words.blogspot.com/


Saturday, September 30, 2017

जीत कर भी कौन जीता है

जीत कर भी कौन जीता है

आज जीते

कल हारे

यूँही घटनाक्रम चलता है

कोई भी समाधान स्थायी नहीं है


समाधान स्थायी होते

तो दशावतार नहीं होते


यह तो हम ही हैं

जो उत्सव मनाने को

लालायित रहते हैं

हर जीत को याद करके

हर्षित होते हैं


यह हम पर निर्भर है कि

हम पूरा चित्र देखें

और स्थितप्रज्ञ रहें

या 

छोटी-छोटी ख़ुशियाँ मनाते रहें

और दुखों पे आँसू बहाते रहें


विजयदशमी, 2017

30 सितम्बर 2017

सिएटल | 425-445-0827

http://mere--words.blogspot.com/

Tuesday, September 26, 2017

उसूलों से इंसाँ बनता है

उसूलों से इंसाँ बनता है

ईंटों से मकाँ बनता है

जब दिलवाले मिल जाए

ख़ूबसूरत समां बनता है


साक़ी पिलाता है

और हम पीते जाते हैं

अपने हाथों से 

जाम कहाँ बनता है


हमारी-तुम्हारी समझ

बस इतनी है प्यारे

कि जो भी बनता है

सब यहाँ बनता है


ये चाँद, ये तारे

ये नक्षत्र सारे

जाने क्या-क्या

तमाम वहाँ बनता है


स्वर्ग है कोई

नर्क है कोई

जैसा हो मन

वैसा जहाँ बनता है


26 सितम्बर 2017

सिएटल | 425-445-0827

http://mere--words.blogspot.com/





Saturday, September 23, 2017

सामाँ फेंका तो कश्ती हल्की हो गई

सामाँ फेंका तो कश्ती हल्की हो गई

तूफ़ाँ आया तो लगा ग़लती हो गई


क्या सही, क्या ग़लत, क्या पता

ख़ुश हुआ, जब बात मन की हो गई


सूरज हो, चाँद हो, या चराग हो कोई

जब भी आँख खोली, रोशनी हो गई


फ़ार्म भरा, फ़ीस दी, फोन किया

बैठे-बिठाए ही ज़िन्दगी में भर्ती हो गई


जब स्कूल में था, तो सोचा था कि

एक दिन लगेगा कि छुट्टी जल्दी हो गई


23 सितम्बर 2017

सिएटल | 425-445-0827