Friday, October 16, 2020

आगमन

कद्दू 

जब खाने की जगह

खेलने के लिए 

ख़रीदा जाने लगे 

समझो

हेलोवीन आ गया है 


हरा-भरा पेड़ 

काट कर

घरों में 

सजाया जाने लगे

समझो

क्रिसमस आ गया है


मोमबत्ती 

रोशनी नहीं 

ख़ुशबू के लिए 

जलाई जाने लगे

समझो रईसी आ गई है 


राहुल उपाध्याय । 16 अक्टूबर 2020 । सिएटल 

Thursday, October 15, 2020

ये लफड़ों, ये झगड़ों, ये झड़पों का भारत

ये लफड़ों, ये झगड़ों, ये झड़पों का भारत 

ये इनसां के दुश्मन समाजों का भारत 

ये मज़हब के झूठे रिवाज़ों का भारत 

ये भारत अगर मिट भी जाए तो क्या है


हर एक जिस्म पागल, हर एक रुह प्यासी

विज्ञापन पे खटपट, ट्वीटर पे लड़ाई 

ये भारत है या आलम-ए-बदहवासी


यहाँ एक खिलौना है बिटिया की हस्ती

ये बस्ती है मुर्दा-परस्तों की बस्ती

यहाँ पर तो जीवन से है मौत सस्ती


जवानी भटकती है बेरोज़गार बनकर

जवां जिस्म मिटते है लाचार बनकर

यहाँ स्कूल खुलते हैं व्यापार बनकर


ये भारत जहां इंसानियत नहीं है

क़ानून नहीं है, हिफ़ाज़त नहीं है

जहां सच सुनने की आदत नहीं है 


ये भारत अगर मिट भी जाए तो क्या है


(साहिर से क्षमायाचना सहित)

राहुल उपाध्याय । 15 अक्टूबर 2020 । सिएटल 

425-445-0827

Tuesday, October 13, 2020

चुपके-चुपके रात-दिन

https://youtu.be/8CzcTsFzxpU 


चुपके-चुपके रात-दिन 

व्हाट्सेप पे आना याद है 

हमको अब तक आपका

इमोजी में शर्माना याद है 


सोमवार को लंच पे

या बुध को आधी रात में

आपके नोटिफिकेशन का

धड़धड़ टिंग-टिंगाना याद है 


छेड़ देना वो मेरा

माज़ी का क़िस्सा बेसबब 

और आपका बेपरवाह 

उलझ जाना याद है 


होली-दीवाली हो या 

हो कोई तीज-त्योहार 

वो आपका मुझको 

दुआओं में लाना याद है 


वो आपकी टाईपिंग के जलवे 

और मेरी लड़खड़ाहट

मैं कहूँ कुछ उससे पहले

दूसरा दागना याद है 


घंटों-घंटों बात हो

और घड़ी झूठ लगने लगे

घड़ी-घड़ी बाय-बाय

कह के न काटना याद है 


कुछ मिनट ही हैं गुज़रे 

हमें तुमसे सब कहे

और कितना कुछ हुआ

वो सब बताना याद है


राहुल उपाध्याय । 18 सितम्बर 2020 । सिएटल 

Monday, October 12, 2020

मेनका

तुम उड़ाती हो 

व्याकरण की धज्जियाँ 

मैं कुछ नहीं कहता


तुम लिखती हो

रोमन में हिन्दी 

मैं कुछ नहीं कहता


वर्तनी 

किस चिड़िया का नाम है 

तुम नहीं जानती 

और मैं  

कुछ नहीं कहता


क्या यही प्यार है?


तुम ग़ैर हो

ग़ैर ही रहोगी 

फिर भी 

अपनों से ज़्यादा 

फ़िक्र है तुम्हें मेरी

और मुझे तुम्हारी 


क्या यही प्यार है?


हज़ारों मील दूर हो मुझसे 

और इतने क़रीब 

कि जैसे यह फ़ोन 

यह कविता

यह टेक्स्ट 

यह पोस्ट 


क्या यही प्यार है?


ऐसा भी नहीं कि 

हमें ग़म नहीं 

दुखों के पहाड़ नहीं 

फिर 

इतनी ख़ुशी क्यों है?

चेहरे पर मिटाए न मिटे ऐसी हँसी क्यों है?

पाँव में थिरकन क्यों है?

लबों पे गीत क्यों है?

आँखों में चमक क्यों है?

फ़ोटो इतने रंगीन क्यों हैं?

कविताओं में बहार क्यों है?


क्या यही प्यार है?


राहुल उपाध्याय । 12 अक्टूबर 2020 । सिएटल 


Sunday, October 11, 2020

झूठी-सच्ची कहानी

ये मसर्रत का है किस्सा

कि मर्सिया 

नहीं जानता

मैं तो मश्कूर हूँ कि

मेरे हर्फ़ तुमसे मुख़ातिब हैं


मैं हबीब हूँ, आश्ना हूँ, या कुछ भी नहीं 

मुझे कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता 

मेरे लिए इतना ही काफ़ी है कि 

मैं तुम्हारे ज़हन में हूँ 


तुम होगी कभी

मेरी सिर्फ़ मेरी

इसका भी किया

कोई एहतिमाम नहीं 


तुम हो ही ख़ुशबू की तरह

क्यूँ न सबका बराबर

इख़्तियार हो 


तुम्हें देखा

तुम्हें चाहा

तुम्हें जी-जान से चाहा

यही मेरी ज़िंदगी 

का लब्बोलुआब है


मुशाहदे मुस्तक़्बिल के

तल्ख़ होंगे के शीरीं 

पता नहीं 

लेकिन होंगे मुस्तक़िल 

कोई एहतिमाल नहीं 


मरना है एक दिन

और मरूँगा ज़रूर 

पर तुम पर न मरा

तो फिर ख़ाक जीया


मैं तुम्हारा अमिताभ नहीं, ना सही

तुम मेरी रेखा नहीं, ना सही

लेकिन एक झूठी-सच्ची कहानी सही


राहुल उपाध्याय । 11 अक्टूबर 2020 । सिएटल 


मसर्रत = आनन्द 

मर्सिया = शोकगीत

मश्कूर = कृतज्ञ

हर्फ़ = अक्षर 

मुख़ातिब = सम्बोधित 

हबीब = मित्र

आश्ना = परिचित 

एहतिमाम = प्रबंध 

इख़्तियार = अधिकार

लब्बोलुआब = निचोड़ 

मुशाहदे = अनुभव

मुस्तक़्बिल = भविष्य 

तल्ख़ = कड़वे

शीरीं = मधुर

मुस्तक़िल = निरंतर 

एहतिमाल = संदेह 


Saturday, October 10, 2020

इतवारी पहेली: 2020/10/11

इतवारी पहेली:


देश पर है जिनकी अमिट छाप, ### ##

पूरी तरह से सार्थक है नाम उनका ####


दोनों पंक्तियों के अंतिम शब्द सुनने में एक जैसे ही लगते हैं। लेकिन जोड़-तोड़ कर लिखने में अर्थ बदल जाते हैं। हर # एक अक्षर है। हर % आधा अक्षर। 


जैसे कि:


हे हनुमान, राम, जानकी

रक्षा करो मेरी जान की


ऐसे कई और उदाहरण/पहेलियाँ हैं। जिन्हें आप यहाँ देख सकते हैं। 


Https://tinyurl.com/RahulPaheliya 


आज की पहेली का हल आप मुझे भेज सकते हैं। या यहाँ लिख सकते हैं। 


सही उत्तर न आने पर मैं अगले रविवार - 18 अक्टूबर को - उत्तर बता दूँगा। 


राहुल उपाध्याय । 11 अक्टूबर 2020 । सिएटल



--

Thursday, October 8, 2020

तेरे मेरे बीच में

https://youtu.be/XpJLpkxsutM 


तेरे मेरे बीच में 

कैसा है ये टेंशन अंजाना

मैंने नहीं जाना 

तूने नहीं जाना 


कितनी ज़ुबानें बोले लोग हमजोली 

क्यूँ नहीं बोले प्रेम की बोली

बोले जो शमा परवाना 


नींद न आए मुझे चैन न आए

लाख जतन करूँ समझ न आए

लड़ता है क्यूँ ज़माना


(आनंद बक्षी से क्षमायाचना सहित)

राहुल उपाध्याय । 8 अक्टूबर 2020 । सिएटल