Sunday, April 15, 2012

उससे बात हो और बात न हो
अच्छा लगता है

वो साथ न हो
और फिर भी साथ हो
अच्छा लगता है

इस हँसती-गाती दुनिया में
कोई मेरे लिए भी
उदास हो,
बेकरार हो
अच्छा लगता है

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


5 comments:

राधेश्याम साबू said...

bahut sunder

Pravin Dubey said...

"वो साथ न हो
और फिर भी साथ हो
अच्छा लगता है"
बहुत दूर की सोच है

amrendra "amar" said...

बहुत खूबसूरती से अपने भावो को उकेरा है .......बधाई*****

Rahul said...

very nice and true

Rahul said...

very nice..and true