Saturday, December 10, 2016

ठण्ड है चारों तरफ़

ठण्ड है चारों तरफ़ 

पर घासफूस पर ज़्यादा ही है

पानी हो जहाँ 

वहाँ बर्फ़ जम जाता ही है


खारा पानी

हो आँख का

या समन्दर का

अथाह है

एक बहता नहीं 

दूसरा बहता जाता है


बरसे बादल, भरे समन्दर 

भरे मन, बरसे आँखें 

कहीं भरना शुभ है, कहीं अशुभ है

बरसना बुरा कहीं, तो कहीं अच्छा है

शब्दावली के शब्दों का

अर्थ उलझता जाता है


ठण्ड-गर्मी आदि जो मौसम हैं

उचित अनुपात में ही रोचक हैं


बर्फ़ पड़े, बच्चे हर्षाए

बर्फ़ जमे, कारें अड़ जाए


उचित अनुपात ही जीवन दर्शन है

जीवन सुख-दुख का संतुलित मिश्रण है


कभी भरा है, कभी खला है

कभी भाया है, कभी खला है


10 दिसम्बर 2016

सिएटल | 425-445-0827

tinyurl.com/rahulpoems 


इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


0 comments: