Thursday, January 1, 2015

नव-वर्ष का शुभारम्भ

यह नव-वर्ष का कैसा शुभारम्भ है?

पहले उल्लुओं की तरह जागो
फिर ग़ैर-ज़िम्मेदारों की तरह उठो
और सारा दिन आलस करो

न काम न काज
सुस्त पड़ा सारा समाज

क्या हमारी यही मंशा है
कि सारा साल ऐसे ही गुज़रे?
बेवक़्त खाए
बेवक़्त पीएँ
बेवक़्त सोए
बेवक़्त उठे
सारा-सारा साल
आलस करें?
जो नहीं खाना चाहिए
उसे खाए
जो नहीं पीना चाहिए
उसे पीएँ?
देर रात तक
शोर-शराबा करें?


इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


1 comments:

Anonymous said...

Haha - नहीं, नहीं, हमारी ऐसी मंशा बिलकुल नहीं कि सारा साल सुस्ती में गुज़रे! :) नए साल के पहले minute से मिलने की इतनी excitement थी कि उसका स्वागत किये बिना नींद नहीं आयी। अब चाहे नींद टूटे या आदत , हमने तो hello कर ली, नए साल ने भी हँस के हामी भरली! :)

आपको नए साल की और आने वाले हर दिन की बहुत सारी शुभकामनाएं!