Monday, January 16, 2017

अर्थ का अनर्थ

ठण्ड में सब अकड़ जाते हैं

गर्मी से पिघल जाते हैं

और फिर भी ये उपदेश है

कि बनती कोशिश ठण्डे रहो


नागपुर में नाग नहीं

मूँगफली में मूँग नहीं

फिर भी ये हिदायत है

कि समझदारी से काम लो


मोहब्बत एक मोह-पाश है

जो लेती सबको बाँध है

और तानाशाह बदनाम हैं

कि करते सबको क़ैद हैं


कारगर होते कारागार

तो आज भी होता अंग्रेज़ों का राज

कारसाज़ का नहीं था इसमें हाथ

हमने किया ख़ुद अपना उद्धार 


शब्दों के मायनों की माया को

कब, कौन, कहाँ समझ पाया है

कितना ही चाहे समझ लो

अर्थ के अनर्थ से कौन बच पाया है


16 जनवरी 2017

सिएटल | 425-445-0827

tinyurl.com/rahulpoems 



इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


0 comments: