Sunday, January 8, 2017

लहरें जम गईं फ़िज़ा थम गई

लहरें जम गईं 

फ़िज़ा थम गई

मन की बात

मन में रह गई


स्मार्ट है फोन

और हम भी डम्ब नहीं 

करें, करें में ही

शाम ढल गई


लम्बा सफ़र था

सम्हल के चला

जेब में थी ख़ुशियाँ 

जेब में ही सड़ गई


होने को ज़िन्दगी 

शादाब हो भी सकती थी

अनुबंधों की स्याही

स्याह कर गई


आईने को आईना

कोई दिखाए तो कैसे

उलटा सीधा देखने की

आदत जो पड़ गई


8 जनवरी 2017

सिएटल | 425-445-0827

tinyurl.com/rahulpoems 



इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


0 comments: