Tuesday, August 2, 2016

Marriage Counselor


चलो मिलाऊँ तुम्हें सब्ज़बाग़ों से
सच्चाई से परे शीरीं ख़्वाबों से

अब जो भी होगा सब अच्छा ही होगा
दर्शन बरसाऊँ ऐसी बातों से

जनम-जनम का साथ है तुम्हारा-तुम्हारा
आस बँधाऊँ ऐसे गानों से 

कड़वे वचन न अब कोई बोलेगा
वादे करवाऊँ लड़ने वालों से

ख़ुद के जीवन का कोई ठिकाना नहीं
मार्गदर्शन कर रहा हूँ कई सालों से

2 अगस्त 2016
सिएटल | 425-445-0827
======
सब्ज़बाग़ = unreal green pastures
शीरीं = sugary







इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


0 comments: