Tuesday, December 30, 2008

शुभकामनाओं की मियाद

साल दर साल

मन में उठता है सवाल

शुभकामनाओं की मियाद

क्यूं होती है बस एक साल?

 

चलो इसी बहाने

पूछते तो हो

एक दूसरे का हाल

साल दर साल

जब जब आता नया साल

 

सेन फ़्रांसिस्को

30 दिसम्बर 2004

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


2 comments:

Arvind Mishra said...

JEE SACH HAI -NAV VARSH KEE MANGAL SHUBHKAAMNAAYEN!

COMMON MAN said...

आपके लिये नव-वर्ष मंगल मय हो.