Tuesday, January 20, 2009

पंचलाईन #3

जिसे माँ पिलाती हैं, उसे दूध कहते हैं
जिसे दोस्त पिलाते हैं, उसे चाय कहते हैं
जिसे नेता पिलाते हैं, उसे कूल-ऐड कहते हैं

जो दिल पर हाथ रख कर ली जाती है, उसे शपथ कहते हैं
जो आँख बंद कर के की जाती है, उसे मोहब्बत कहते हैं
जो दिमाग बंद कर के की जाती है, उसे चापलूसी कहते हैं

जो दिल खोल के पार्टी देता है, उसे दिलेर कहते हैं
जो जेब खोल के पार्टी देता है, उसे कुबेर कहते हैं
जो जनता को लूट के पार्टी करता है, उसे ख्मेर रुज कहते हैं

जो झांसी में रहता है, उसे झांसी वाला कहते हैं
जो झांसे में आ जाता है, उसे मामा कहते हैं
जो झांसा दे देता है, उसे ओबामा कहते हैं

सिएटल 425-445-0827
20 जनवरी 2009

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


2 comments:

संगीता पुरी said...

वाह !!!बहुत सुंदर।

COMMON MAN said...

hamesha ki tarah, wah rahul bhaiya, wah