Friday, September 19, 2008

आज के बाद

तेरे नम्बर को ना रिंग करेंगे सनम, आज के बाद
तुझे ई-मेल भी ना लिखेंगे सनम, आज के बाद

तू मेरा मिलना समझ लेना एक सपना था
तुझको बहाना मिल ही गया जो तुझको ढूंढना था
सच कोई तुमसे कहेगा ना सनम, आज के बाद

बजती जाएगी घंटियां रोज किसी सेल फोन की
फ़िर भी ना सुनूंगा धुन तेरे रिंग-टोन की
कान में रूई हम लगाएंगे सनम, आज के बाद

हमको तुमको साथ अभी तो सदियों चलना था
बीच सफ़र में हाथ यूँ नहीं तुमको छोड़ना था
हम हाथ किसी का ना पकड़ेंगे सनम, आज के बाद

सिएटल,
19 सितम्बर 2008
(सावन कुमार से क्षमायाचना सहित)

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


4 comments:

vineeta said...

bahut badhiya ....lage raho

MANVINDER BHIMBER said...

तेरे नम्बर को ना रिंग करेंगे सनम, आज के बाद
तुझे ई-मेल भी ना लिखेंगे सनम, आज के बाद
bahut achcha laga

Udan Tashtari said...

सही है. :)

Yogesh said...

Achha hai,
But copied hai...from a song...

Aap itna achha likh sakte ho....kuchh apna likhaa keejiye...songs se copy karne ki kya zaroorat hai aapko....