Tuesday, October 9, 2007

मौसम


चिट्ठाजगत अधिकृत कड़ी

मौसम
राहुल उपाध्याय

पतझड़ के पत्ते
जो जमीं पे गिरे हैं
चमकते दमकते
सुनहरे हैं

पत्ते जो पेड़ पर
अब भी लगे हैं
वो मेरे दोस्त,
सुन, हरे हैं

मौसम से सीखो
इसमें राज़ बड़ा है
जो जड़ से जुड़ा है
वो अब भी खड़ा है
रंग जिसने बदला
वो कूढ़े में पड़ा है

घमंड से फ़ूला
घना कोहरा
सोचता है देगा
सूरज को हरा

हो जाता है भस्म
मिट जाता है खुद
सूरज की गर्मी से
हार जाता है युद्ध

मौसम से सीखो
इसमें राज़ बड़ा है
घमंड से भरा
जिसका घड़ा है
कुदरत ने उसे
तमाचा जड़ा है

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


2 comments:

parul k said...

sab baaten achhi aur leek se hat kar kahi gayin hai..beautiful effort

neha said...

very very nice...