Monday, May 14, 2018

मैं जिस थाली में खाता हूँ

मैं जिस थाली में खाता हूँ

उस में तो छेद नहीं करता हूँ

पर दाल में कुछ काला है

कहने से नहीं डरता हूँ


आईना देखता हूँ, दिखाता हूँ

कसौटी पे सबको कसता हूँ


दूसरों के जूते पहनने की आदत है

'डेविल' का एडवोकेट बना फिरता हूँ


जिस पर वाह करनी है, उस पर वाह करता हूँ

किसीकी नहीं परवाह करता हूँ


मैं स्टीव जॉब्स तो नहीं 

लेकिन अपनी एक की दुनिया में 

ख़ुद से ख़ुश रहता हूँ


14 मई 2018

सिएटल

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


0 comments: