Saturday, May 12, 2018

May 13 हूँ

May 13 हूँ

तू Mary है

ये सच है 

या सिर्फ़ शब्दों की हेरा-फेरी है?


क्योंकि 

यूँ देखो तो smiles के s के बीच की दूरी मील नहीं 

Heart के बीच में होता कान नहीं 

और लाभ का उल्टा भला नहीं 


सब तिकड़म है कुछ और नहीं 

हर अक्षर से कई शब्द बनते है

हर शब्द के कई मायने होते हैं 

और हेरा-फेरी भी करने लगो

तो अर्थ का होता अनर्थ है

जैसे 

slaughters में दिख जाती दवाई है

और poison में कहते बेटा है

अरे! ऐसा भी कहीं होता है?


मेरी मानो तो

शब्दों की गिरफ़्त से निकलो

मन की भावनाओं को समझो


मन अच्छा हो

तो कठौती में गंगा है

वरना पाँचसितारा भी 

खटकता है


सिडनी में होती है ख़ुशहाली 

और शंघाई में सर दुखता है


12 मई 2018

सिएटल



इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


0 comments: