Friday, June 4, 2010

कभी-कभी दुआओं का जवाब आता है

कभी-कभी दुआओं का जवाब आता है
और कुछ इस तरह कि बेहिसाब आता है


ढूँढते रहते हैं रात-दिन जो फुरसत के रात-दिन
हो जाते हैं पस्त जब पर्चा रंग-ए-गुलाब आता है (पर्चा रंग-ए-गुलाब = pink slip, नौकरी खत्म का आदेश )


यूँ तो तेल निकालो तो तेल निकलता नहीं है
और अब निकला है तो ऐसे जैसे सैलाब आता है (सैलाब = बाढ़, flood)


चश्मा बदल-बदल कर कई बार देखा
हर बार नज़रों से दूर नज़र सराब आता है (सराब = मरीचिका, mirage)


जा के विदेश जाके पूत डालते हो डेरा (जाके = जिसके)
वैसे मुल्क में कहाँ आफ़ताब आता है (आफ़ताब = सूरज)


कुकर पे सीटी न जब तक लगी हो (कुकर = pressure cooker)
दाल में भी कहाँ इंकलाब आता है 

पराए भी अपनों की तरह पेश आते हैं 'राहुल'
वक़्त कभी-कभी ऐसा भी खराब आता है


सिएटल | 425-898-9325
4 जून 2010

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


4 comments:

sangeeta swarup said...

बहुत खूबसूरत ग़ज़ल कही है...

आचार्य जी said...

आईये जानें ..... मन ही मंदिर है !

आचार्य जी

sada said...

हर पंक्ति बहुत कुछ कहती हुई, बेहतरीन शब्‍द रचना।

Yogesh said...

Bahut hi badhia raahul ji....

kamaal kii gazal kahi hai aapne...