Wednesday, April 18, 2018

न जाने कौन सी चीज़ तुम्हें पसन्द है

जाने कौन सी चीज़ तुम्हें पसन्द है

इसलिए हनुमान जी की तरह सारी चीज़ उठा लाया

  • मोज़्ज़रैला से लेकर चेडार तक
  • अमेरिकन से लेकर स्विस तक
  • ब्री से लेकर गौडा तक
  • प्रोवोलोन से लेकर पेप्परजैक तक
  • पार्मीज़ैन से लेकर फ़ेटा तक
  • मॉन्ट्री जैक से लेकर हावरार्टी तक
  • ब्लू से लेकर मन्स्टर तक
  • रिकौटा से लेकर कोल्बी तक
  • कॉटेज से लेकर क्रीम तक


नतीजा?

  • पेट बढ़ गया
  • बाल झड़ गए 
  • स्वास्थ्य बिगड़ गया
  • बाग़ उजड़ गया


लेकिन तुम जो चाहती थी

वो चीज़ नहीं मिली

  • कास्टको में, विन्को में 
  • सेफवे में, टारगेट में
  • फ्रेड मायर में, क्यू-एफ-सी में 
  • पी-सी-सी में, होल फ़ूड्स में
  • क्रोगर में, लकी में
  • अल्बरटसन्स में, कारफोर में
  • एक्मे में, आई-जी- में 
  • ट्रैडर जोस में, वॉल-मार्ट में 


क्यूँकि जो हमें चाहिए

उसे 

  • परिभाषित करना कठिन
  • समझाना नामुमकिन 
  • और समझना दुश्वार है


चाहत

एक अहसास है

जिसका होना ही पाना है

जिसकी खोज

एक निरर्थक प्रयास है

जिसका रंग है, रूप है

जिसमें दर्द है, सुकून है

जिसके बग़ैर 

हम एक ज़िंदा लाश है


18 अप्रैल 2018

सिएटल


इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


0 comments: