Wednesday, April 4, 2018

जब होता है प्रकाश

किसी के इतने पास हूँ कि

हर बात अच्छी लगती है

सुन्दर लगती है

मनभावन लगती है


किसी से इतना दूर हूँ कि

हर बात बुरी लगती है

चिड़ होती है

खून खौलता है


किसी के इतने पास हूँ कि

हर बात बुरी लगती है

चिड़ होती है

खून खौलता है


किसी से इतना दूर हूँ कि

हर बात अच्छी लगती है

सुन्दर लगती है

मनभावन लगती है


ये दूरियाँ, ये नज़दीकियाँ

क्या बढ़ाती हैं ये परेशानियाँ?


या हममें ही हैं कुछ ख़ामियाँ 

जो छुपी रहती हैं जैसे परछाईंयाँ

और नज़र आती हैं तब

जब होता है प्रकाश

और होती हैं तन्हाईयाँ?


इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


0 comments: