Saturday, April 12, 2008

सच

मैं लिखता नही हूँ
मुझसे लिखा जाता नही है
यूँ अपनों से नाता तो तोड़ा जाता नही है

मैं कहता नही हूँ
मुझसे कहा जाता नही है
यूँ हर किसी को आईना दिखाया जाता नही है

मैं सुनता नही हूँ
मुझसे सुना जाता नही है
हर मुद्दे पर तटस्थ तो रहा जाता नही है

मैं करता नही हूँ
मुझसे किया जाता नही है
महफ़िल दर महफ़िल अभिनय किया जाता नही है

मैं जीतता नही हूँ
मुझसे जीता जाता नही है
हर कदम तो फूंक-फूंक कर रखा जाता नही है

वाशिंगटन डी सी
१२ अप्रैल २००८

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


2 comments:

Anonymous said...

Bahut Sundar, Rahul! Is kavita mein kavi hone ki feeling ko aapne bahut sundar tarah se kaha hai. Isse pahle bhi aapne do aisi hi sundar kavita likhi thi - "Mein Kavi Hun" aur "Badhai". Very nice!

डा० अमर कुमार said...

क्या अंदाज़े बयाँ है !