Wednesday, April 9, 2008

मरते दम तक

अभी भी कुछ हरियाली बाकी है
कब्र के हुजूम में
ताकि अपने प्रियजन दफ़नाए जा सके
दो पल बैठ कर आंसू बहाए जा सके

अभी भी कुछ हरियाली बाकी है
अट्टालिकाओं के झुंड में
ताकि बच्चे तितलियों के पीछे भाग सके
नन्हे हाथ उड़ते गुब्बारों को पकड़ सके

अभी भी कुछ हरियाली बाकी है
काली सड़को के जाल में
ताकि थका हुआ मज़दूर थोड़ी देर सुस्ता सके
ठंड से जूझता बुज़ुर्ग थोड़ी देर धूप सेंक सके

सीमेंट के अथाह समंदर में
अभी भी कुछ पेड़ बाकी है
न कोई उन्हे सम्हालता है
न कोई उन्हे पानी देता है
सूरज भी ईर्द-गिर्द की मीनारों पर
धूप डाल कर मुँह फेर लेता है

फिर भी पेड़ बाज नही आते हैं
अपनी शाख को 'ट्रेफ़िक' में घुसाने से
वसंत में फूलों से लद जाने से
पतझड़ में 'स्वीपर' को छकाने से

बूढ़े हो चले हैं
मगर
अभी भी कुछ जान बाकी है

न्यू यार्क,
9 अप्रैल 2008

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


1 comments:

Anonymous said...

Bahut hi intense aur sensitive poetic expression hai ek bade metro shaher ka, Rahul! Aapne New York ke sky scrapers ke experience ko bahut sundar poetry mein likha hai.