Sunday, March 16, 2008

मंदिर

पत्थर कुछ सुनता नही
दिल कुछ कहता नही
जाता हूँ मंदिर
लेकिन मन वहाँ लगता नही

मिलते हैं लोग
देते हैं ढोग
भजते हैं भजन
या करते हैं ढोंग
ये तो वे ही जाने
मैं कुछ कह सकता नही
जाता हूँ मंदिर
लेकिन मन वहाँ लगता नही

मिलते हैं पुजारी
जिनकी जुबान दुधारी
दान-दक्षिणा ले कर
दोह रहे गाय दुधारी
गीता का है ज्ञान
लेकिन आचरण से झलकता नही
जाता हूँ मंदिर
लेकिन मन वहाँ लगता नही

मिलती है मूर्ति
एकटक घूरती
मैं तो वहीं था
श्रद्धा कहीं दूर थी
प्राण-प्रतिष्ठित है
लेकिन सांस कोई भरता नही
जाता हूँ मंदिर
लेकिन मन वहाँ लगता नही

सिएटल,
16 मार्च 2008
==================
ढोग = bow before a diety
ढोंग = pretend
जुबान = tongue
दोह = to milk a cow
दुधारी = 1. double edged 2. milk producing cow 3. cash cow

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


2 comments:

Keerti Vaidya said...

bhut khoob.....

Pankaj Bhatia said...

Rahul Ji Ye kavita bahut achhi lagi.