Friday, March 28, 2008

मिलने की अभिलाषा

देखता हूँ उसे रोज़
जाते हुए दफ़्तर
आते हुए घर

देखता हूँ उसे रोज़
लेकिन रुकता नही
है कभी आँफ़िस की झंझट
तो कभी परिवार के बंधन

सोचता हूँ
एक दिन
उतरु अपनी गाड़ी से
चल के जाऊँ उस पगडंडी से
समेट लू उसकी खुशबू अपनी सांसों में
निहारु औंधें पड़े गगन को

लेकिन नही
अभी थोड़ा और कमाना है
सुंदर सा घर बनाना है
अपनो को सताना है
गैरों को बताना है

देखता हूँ उसे रोज़
जाते हुए दफ़्तर
आते हुए घर

सिएटल,
28 मार्च 2008

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


1 comments:

Anonymous said...

Bahut pyaari kavita hai, Rahul.