Friday, March 14, 2008

मैं कवि हूँ

मैं कवि हूँ
कोई किरदार नही
कि एक कुर्ते-पजामें में सिमट जाऊँ

मैं कवि हूँ
कोई सलाहकार नही
कि तुम्हे जीवन जीने की राह दिखाऊँ

मैं कवि हूँ
कोई मददगार नही
कि तुम्हारा दु:ख-दर्द मिटाता जाऊँ

मैं कवि हूँ
कोई खानसामा नही
जो menu के मुताबिक
कभी मीठा
कभी खट्टा
तो कभी चटपटा
Item पेश करता जाऊँ

मैं कवि हूँ
कविता मेरा शौक है, मेरा पेशा नही
और तनिक भी शोक नही कि इसमें पैसा नही

मैं कवि हूँ
कविता मेरा व्यवसाय नही
शब्दों से खेलता हूँ
शब्दों की खाता नही
इन्हें बेंच कर
खोलना मुझे बैंक खाता नही

मैं कवि हूँ
मेरे शब्द बहुरुपी है
मैं भी बहुरुपिया हूँ
बाते जरुर बनाता हूँ
उनसे बनाता नही रुपया हूँ

मैं कवि हूँ
कभी दुनिया की नही परवाह की
जब जो अच्छा लगा उस पर वाह की

मैं कवि हूँ
सच कहने से घबराता नही
जानता हूँ कि
जिस दम घुटने टेक दूगा
उस पल से मेरा दम घुटने लगेगा

मैं कवि हूँ
जब भी कहता हूँ
सच ही कहता हूँ
लेकिन मैं 'मेरा' ही सच कहता हूँ
ये आवश्यक तो नही कि हमारे-तुम्हारे विचार मिले
और ये भी उद्धेश्य नही कि इसके लिए बधाई मिले

मैं कवि हूँ
जब भी कहता हूँ
सच ही कहता हूँ
लेकिन मैं 'आज' का ही सच कहता हूँ
मुमकिन है कल मैं खुद ही अपनी बात से पलट जाऊँ

समय बहता है,
मैं भी उसके साथ बह जाऊँ
आज यहाँ हूँ,
कल कही और चला जाऊँ

तुम लकीर के फ़कीर मत बनना
मेरे शब्दों से चिपके मत रहना

मैं कवि हूँ
मेरा खुद का कोई ठिकाना नही
मेरा कोई भी शब्द अंतिम नही

सिएटल,
14 मार्च 2008

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


2 comments:

Anonymous said...

Aap woh kavi hain jo subke dil ke baaton ko kavita mein kehte hain. Aapki poems hamein hasati aur rulati hain; Intense label wali to ek dum dil ko chhoo jati hain.

Amit Gupta said...
This comment has been removed by the author.