Thursday, March 27, 2008

मोल-भाव

सौदापरस्त दुनिया में अक्सर ऐसा ही है होता
कोई बेंचता है कविता तो कोई खरीदता है श्रोता

सस्ता हो सौदा या महंगा हो सौदा
सौदा किसी भी नाम से होता है सौदा

कोई झुकाता है सर तो कोई पकड़ता है पद
ताकि आज नही तो कल उसे मिल जाए पद

कोई खरीदता है पद तो कोई बेंचता है पद
पाने के बाद फ़िर नही कोई छोड़ता है पद

पद वाले छोड़ देते हैं लिखना पद और छंद
नई विचारधारा के लिए पट कर देते हैं बंद
हमेशा आगे कर देते हैं अपने भाई और बंद
नगर नगर गाते हैं कि समाज में फ़ैला है गंद

समझना हो 'गर भारत-पाकिस्तान का द्वंद
बनाए आप एक संगठन और बनाए पद चंद
हिलेरी और ओबामा को भी मात दे देंगे
पद लोभी जिनके मुख कल तक रहते थे बंद


सिएटल,
27 मार्च 2008
===================
Glossary:
पद = 1. feet 2. title 3. stanza
द्वंद = fight, duel

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


2 comments:

Anonymous said...

Bahut sahi likha hai aapne, Rahul. Par kavita to khareed nahin sakte shrota, woh to priceless hoti hai.

Sourabh said...

Bahut hi sahi lekha hai aapne Sir, Main bhi MP se hi hoon. Pankaj Bhatia se aap ke bare main pata chala tha. sanskruti per main bhi aap se sahmat hoon.
sanskar sochen param puneete..