Sunday, October 4, 2009

करवा चौथ

भोली बहू से कहती हैं सास
तुम से बंधी है बेटे की सांस
व्रत करो सुबह से शाम तक
पानी का भी न लो नाम तक

जो नहीं हैं इससे सहमत
कहती हैं और इसे सह मत

करवा चौथ का जो गुणगान करें
कुछ इसकी महिमा तो बखान करें
कुछ हमारे सवालात हैं
उनका तो समाधान करें

डाँक्टर कहें
डाँयटिशियन कहें
तरह तरह के
सलाहकार कहें
स्वस्थ जीवन के लिए
तंदरुस्त तन के लिए
पानी पियो, पानी पियो
रोज दस ग्लास पानी पियो

ये कैसा अत्याचार है?
पानी पीने से इंकार है!
किया जो अगर जल ग्रहण
लग जाएगा पति को ग्रहण?
पानी अगर जो पी लिया
पति को होगा पीलिया?
गलती से अगर पानी पिया
खतरे से घिर जाएंगा पिया?
गले के नीचे उतर गया जो जल
पति का कारोबार जाएंगा जल?

ये वक्त नया
ज़माना नया
वो ज़माना
गुज़र गया
जब हम-तुम अनजान थे
और चाँद-सूरज भगवान थे

ये व्यर्थ के चौंचले
हैं रुढ़ियों के घोंसले
एक दिन ढह जाएंगे
वक्त के साथ बह जाएंगे
सिंदूर-मंगलसूत्र के साथ
ये भी कहीं खो जाएंगे

आधी समस्या तब हल हुई
जब पर्दा प्रथा खत्म हुई
अब प्रथाओ से पर्दा उठाएंगे
मिलकर हम आवाज उठाएंगे

करवा चौथ का जो गुणगान करें
कुछ इसकी महिमा तो बखान करें
कुछ हमारे सवालात हैं
उनका तो समाधान करें

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


3 comments:

Yogesh said...

राहुल जी,
आपकी पोस्ट पढ़ी,
बात सही कही है आपने

मैं न तो इसके पक्ष में हूँ, न ही विपक्ष में

मेरी बीवी अगर रखना चाहेगी तो शौक से रखे, और अगर न भी रखे तो मुझे कोई ऐतराज़ नहीं होगा

लेकिन, मेरा ये मानना है, कि यदि कोई पत्नि दिल से रखती है, तो ये उसका पति के लिये प्यार दर्शाता है। और शायद इस से पति को भी एहसास होता होगा कि उसकी पत्नि उस से कितना प्यार करती है।

करवा चौथ optional होना चाहिये, जो रखना चाहे रखे, जो नहीं रखना चाहती, वो मत रखे।

आज हमारे ऊपर वाले फ्लैट में दीदी रहते हैं उन्होंने बताया कि गुजरात में लोग करवा चौथ का व्रत नहीं रखते। ये तो सिर्फ़ मान्यतायें हैं।

Coral said...

ये व्यर्थ के चौंचले
हैं रुढ़ियों के घोंसले
एक दिन ढह जाएंगे
वक्त के साथ बह जाएंगे
सिंदूर-मंगलसूत्र के साथ
ये भी कहीं खो जाएं...

बहुत अच्छे से आपने लिखा है... आज के ज़माने में जहा नारी ९-६ कम पे जाती है पानी पिए बगैर रहना अनुचित है!

dehati ji said...

एक दिन कS चांद

बतकही। सत्ताइस अक्टूबर दो हजार दस की रात के बात। खबरइंडिया डॉट कॉम पर खबरन से खेलत माउस पर हाथ। तबले बजल मोबाइल के घंटी। अरे, इ का? अबहीन त S आठ बजत बा। घर से फोन काहें आ गइल। मानसिक रूप से तैयार होत रहलीं कि डांट-फटकार सुने के परी। लगता बा फिर हमसे गलती भइल बा। किचेन के बर्तन ना धोके अइलीं का? लेकिन सर्वदा कर्कश गर्जना की जगह सुनाइल मिसिरी घोरल आवाज। ए जी! सुनत हईं? राउर आरती उतारे के बा। हमरा व्रत तोड़े के बा। दिनभर निर्जल व्रत रहलीं ह। हम लगलीं सोचे- मैडम कहिया से एकादशी भुखे लगली। माई-दादी-दादा त भुखेंले। उहो एकादशी में हमार आरती काहें उतरी।
भगवान की तरफ से भाग्य बना के आइल बानीं। घर के मलिकई कपार पर बा, त मार-मुकदमा, फौजदारी घटल-बढ़ल, हीन-नात, नेवता-हंकारी पर-पट्टीदारी, खेती-बारी, खाद-बीया, कटिया-पिटिया सब निभावे के बा। कवनो चीज में कमी भइल त हमरे कपार नोंचाई। इ आज आरती कवना बात के? बड़ा हिम्मत क के पूछि बइठलीं- श्रीमती जी! आज कवन व्रत ह, काहें हमार आरती उतारब? उ बतवलीं- करवा चौथ। हमरा मुंह से हंसी निकर गइल। उ कहली-हंसी जनि जल्दी आईं। चांद उगेवाला हवें। उनके चलनी से निहारे के बा, आ रउरा के भर नजर देखे के बा। रउरे हमार चांद हईं। हमरा फिर हंसी छूटि गइल। हमेशा हमार नामकरण गोबरगनेश, घोंचू, बकलोल, करिझींग्गन, बतबहक, घरघूमन, चौपट, अड़भंगी, कंजूस अइसन शब्दन से होत रहे। आज जमाना पलट गइल। हम चांद हो गइलिन। एक दिन क चांद।
धन्य हो करवा चौथ। ना कवनों पुराण में येकर व्याख्या बा ना कवनो धर्मशास्त्र में। फिल्मी दुनिया वाला अस देखवले कि घर-घर में छा गइल करवा चौथ। खैर, मैडम चलनी से चांद निहरली, हमके चांद बनवलीं, हमहूं उनकर चेहरा निहरलीं, त आज सुरसा, ताड़का, त्रिजटा, सूर्पणखा, चुड़ैल सा दिखे वाली छाया समाप्त हो गइल रहे। उ सावित्री अइसन सुघ्घर, सुकांत, सती, सौंदर्य के मूरति बनि गइल रहली। थाली सजा के हमार आरती उतारत रहली, आ हम गुनगुनाये लगलीं- जनम-जनम का साथ है हमारा तुम्हारा...।
-घरघूमन लाल